मिट्टी की लवणता बनाये रखने के लिए 8 आसान टिप्स

खेत की मिट्टी में नमक की मात्रा

नमस्ते किसान भाइयों और बहनों 🙏🏼

🤝🏼भारतअ‍ॅग्री का इस्तेमाल करने वाले हजारों किसान आज कम लागत में ज्यादा उत्पादन के साथ 👨‍🌾 स्मार्ट खेती कर रहे हैं। आप भी स्मार्ट किसान बन सकें, इसलिए हम हर रोज 👉 कृषि से जुड़ी नई जानकारियां लेकर आपसे मिलने आ रहे हैं। ✅ यह जानकारी आपकी खेती के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकती है। इसलिए पूरी जानकारी जरूर पढ़ें और स्मार्ट किसान बनें! 👍🏻

🌱 भारतअ‍ॅग्री किसानों को स्मार्ट बनाने की कोशिश कर रहा है। भारतअ‍ॅग्री ॲप के जरिए किसान अपनी जरूरत के मुताबिक मिट्टी की जांच, पानी की जांच के साथ ही 🛰️सैटेलाइट मैपिंग की सेवाएं भी ले सकते हैं। इसके साथ ही किसानों को अगले तीन दिन के ⛅ मौसम पूर्वानुमान की जानकारी मिल सकती है।🌱 भारतअ‍ॅग्री ॲप का इस्तेमाल करने वाले 👷‍♂ स्मार्ट किसानों को कम लागत में ज्यादा मुनाफा हो रहा है। इसके साथ ही फसल और मिट्टी की गुणवत्ता बनाए रखने में भी मदद मिलती है।

✔ अब हम आपके लिए खेती से जुड़े कुछ स्मार्ट टिप्स लेकर आ रहे हैं। 😎 खेती संबंधित टिप्स जानने के लिए भारतअ‍ॅग्री से जुड़े रहे। साथ ही अधिक जानकारी पाने के लिए आप 👉भारतअ‍ॅग्री ॲप को भी भेट दे सकते हैं।

🌑 मिट्टी में लवण (नमक) की मात्रा को मिट्टी लवणता कहते हैं। वैसे तो नमक 🌑 मिट्टी और पानी में पाया जाता है। वहीं, खनिज अपक्षय या समुद्र के क्रमशः दूर जाने से मिट्टी का लवणीकरण हो सकता है । इसके साथ ही सिंचाई करने आदि कृत्रिम क्रियाओं से भी मिट्टी की लवणता बढ़ सकती है। अगर आप भी 🌑 मिट्टी की लवणता में सुधार करना चाहते हैं, तो चिंता न करें। भारतॲग्री के इस जुगाड़ का उपयोग करके अपनी भूमि में सुधार करें।👍

  1. यदि भूमि समतल है, उसमे बहुत गड्ढे है, तो मिट्टी को एक तरफ समतल किया जाना चाहिए और अधिक पानी का निकास होना चाहिए।
  2. ट्रैक्टर चालित ब्लेड की सहायता से सतह के लवणों को खेत से बाहर खुरच कर निकालना चाहिए।
  3. सिंचाई के लिए अच्छी गुणवत्ता वाले पानी का उपयोग करें।
  4. क्षारीय सहिष्णु फसलों को लिया जाना चाहिए।
  5. जैव उर्वरक (वर्मीकम्पोस्ट, गोबर, कम्पोस्ट खाद आदि), अम्लीय रासायनिक उर्वरक (अमोनियम सल्फेट, अमोनियम फ़ॉस्फेट सल्फेट, मोनो अमोनियम फ़ॉस्फेट, डाय अमोनियम फ़ॉस्फेट, यूरिया आदि) और जैविक उर्वरक (जीवाणु उर्वरक)।
  6. हरी पत्तेदार फसलें (ताग, धान, हरा चना आदि) लेनी चाहिए।
  7. ड्रेनेज सिस्टम (खुले चर, मोल ड्रेनेज, भूमिगत छिद्रपूर्ण जल निकासी प्रणाली, सबसॉइलर) को अपनाया जाना चाहिए।
  8. फसल की पैदावार, खेती / खेती में उचित परिवर्तन किए जाने चाहिए। (जैसे रोटेशन में दलहन, अनाज की फसलें, साड़ी वरम्बा पर रोपण आदि शामिल हैं)।”

👆 अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो इसे ❤️ लाइक करें और अपने दोस्तों और परिवार के साथ शेयर भी करें।👍

🔻 नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके भारतअ‍ॅग्री ॲप डाउनलोड ⏬ करें और अपने खेत को भारतअ‍ॅग्री से जोड़कर 🤝🏼 आज ही स्मार्ट किसान बनें!👍

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *